ATM Full Form In Hindi | एटीएम क्या है - एटीएम फुल फॉर्म क्या है? What Is ATM | Meaning Of ATM in Hindi !

आप जानते हैं एटीएम क्या है ( what is ATM) और एटीएम का फुल फॉर्म (ATM Full Form Kya Hai) क्या है  अगर आप जानते हैं तो तो बहुत ही अच्छा है अगर नहीं जानते हैं तो आज आपको बताएंगे एटीएम और एटीएम की फुल फॉर्म के बारे में एटीएम का पूरा नाम क्या है 


ATM Full Form In Hindi, What Is ATM In Hindi, ATM Ka Pura Nam, ATM Meaning
ATM Full Form In Hindi, ATM Kya Hai?


ATM का पूरा नाम ऑटोमेटिक टेलर मशीन होता है नोटबंदी के समय एटीएम पर लगी लंबी-लंबी कतारों को कौन नहीं जानता एटीएम का कितना उपयोग है अभी भी कुछ ऐसे लोग हैं जिन्हें एटीएम के बारे में पता नहीं है एटीएम का फुल फॉर्म ( ATM Full Form Hindi) नहीं जानते हैं


तो चलिए जानते हैं एटीएम क्या है और एटीएम का फुल फॉर्म क्या है



एटीएम क्या है? (What Is ATM in Hindi)


एटीएम का पूरा अर्थ ऑटोमेटिक टेलर मशीन होता है(Automated Teller Machine) इसका हिंदी नाम  स्वचालित गणक मशीन होता है  एटीएम का उपयोग वही लोग कर सकते हैं जिनका किसी बैंक में खाता है वे किसी बैंक के कस्टमर हैं


एटीएम के द्वारा कार्डधारक व्यक्ति किसी भी एटीएम पर जाकर एटीएम से पैसे निकाल सकता है बैलेंस की इंक्वायरी कर सकता है बहुत ही कम समय में और एटीएम के कारण पैसा निकालने के लिए उसे बैंक जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी या अपने कम समय में ही पैसा निकाल सकता है और बैलेंस इंक्वायरी भी कर सकता है



ATM Full Form in Hindi (एटीएम का फुल फॉर्म  क्या है)


ATM Full Form - Automated Teller Machine



ATM को हिंदी में क्या कहते हैं 


एटीएम का पूरा नाम - स्वचालित गणक मशीन


Automated Teller Machine - स्वचालित गणक मशीन




ATM का इतिहास (History Of ATM in Hindi) 


अभी हमने आपको बताया एटीएम क्या है  एटीएम का फुल फॉर्म क्या होता है अब जानते हैं एटीएम का इतिहास क्या है 27 जून 1967 को उतरी लंदन के इनफिल्ड कस्बे में पहला एटीएम शुरू हुआ था. एटीएम नाम से चर्चित ऑटोमेटेड टेलर मशीन का आज 50वां जन्मदिन है. भारत में 1987 में देश का पहला एटीएम शुरू हुआ था. इसे मुंबई में एचएसबीसी बैंक की शाखा ने लगाया था


भारत में एटीएम की शुरुआत साल 1987 में हुई थी. इसे सबसे पहले एचएसबीसी(हांग कोंग और शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड) ने अपनी मुंबई ब्रांच में लगाया था. तब से लेकर अब तक भारत में 2 लाख 7 हजार 813 एटीएम मशीन लग चुकी हैं. भारत में सबसे ज्यादा एटीएम स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के हैं.


भारत में एटीएम की शुरुआत 1987 ईस्वी में हुई भारत में सबसे पहले एटीएम मुंबई में लगाया गया था वर्तमान समय में एटीएम का उपयोग बहुत ही बढ़ गया है क्योंकि जिस चीज का आविष्कार किया जाता है तो उस चीज की आवश्यकता बढ़ने लगती है




ATM कैसे काम करता है (ATM Kya hai)



एटीएम मशीन एटीएम कार्ड में लगे मैग्नेटिक बार कोड (कार्ड के पीछे काली पट्टी) को पढ़कर आपके बैंक खाता की पहचान करता है। जब आप के बैंक खाते की पहचान हो जाती है उसके बाद कार्ड की निजी पहचान संख्या (पिन) देनी होती है। ग्राहक द्वारा एटीएम में पिन डालने के बाद उसकी सूचना एटीएम के अंदर लगे एक यंत्र (स्विच) के पास जाती है।

 

एटीएम से क्या लाभ है? एटीएम लाभ



· सामान्य गुण: एटीएम मशीन से पैसे निकालने की एक सीमा होती है। न्यूनतम सीमा सौ रुपये और  अधिकतम हर बैंक की अलग होती है।अतिरिक्त सुविधा: आधारभूत बैंकिंग लेन-देन से अलग एटीएम आपको कई अतिरिक्त सुविधाएं भी देते हैं। खामियां: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को नियमित रूप से एटीएम में अनियमितता संबंधी शिकायतें मिलती हैं।



पहली बार एटीएम कैसे यूज़ करें? हम आपको इसका तरीका बता रहे हैं:



1.    सबसे पहले ATM में डेबिट कार्ड डालें.
2.    इसके बाद आपको पिन जेनेरेशन का विकल्प मिलेगा.
3.    अगर पहली स्क्रीन पर आपको पिन चेंज, पिन जेनरेशन का विकल्प नहीं मिल रहा है तो आप मोर ऑप्शन विकल्प पर क्लिक करें.
4.    यहां आपको पिन चेंज/पिन जेनरेट करें का विकल्प मिलेगा.


पहला एटीएम कब लगा?


आज ही के दिन 27 जून 1967 को उतरी लंदन के इनफिल्ड कस्बे में पहला एटीएम शुरू हुआ था. एटीएम नाम से चर्चित ऑटोमेटेड टेलर मशीन का आज 50वां जन्मदिन है. भारत में 1987 में देश का पहला एटीएम शुरू हुआ था. इसे मुंबई में एचएसबीसी बैंक की शाखा ने लगाया था



एटीएम मशीन में पैसे कैसे डाले?


मशीन का प्रयोग करने के लिए संबंधित खाते का एटीएम कार्ड डालने के बाद उपभोक्ता को पिन कोड डालना होता है। इसके बाद स्क्रीन पर कैश जमा करने का विकल्प, नोटों का प्रकार धनराशि दर्ज करने का ऑप्शन दिखता है। सारी सूचनाएं दर्ज करने के बाद मशीन के आगे लगे चैम्बर में नोट रख देते हैं।


एटीएम इंडिया में कब आया? कब हुई भारत में शुरुआत-


भारत में एटीएम की शुरुआत साल 1987 में हुई थी. इसे सबसे पहले एचएसबीसी(हांग कोंग और शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड) ने अपनी मुंबई ब्रांच में लगाया था. तब से लेकर अब तक भारत में 2 लाख 7 हजार 813 एटीएम मशीन लग चुकी हैं. भारत में सबसे ज्यादा एटीएम स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के हैं.


 
एटीएम के आविष्कारक कौन है?



 
एसबीआई का एटीएम कितने दिन में आता है?


नया एटीएम कार्ड आपके घर पर 7 दिनों में भेज दिया जाएगा।


1 दिन में एटीएम से कितना पैसा निकल सकता है?


देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंट (एसबीआई) ने एक दिन में एटीएम से पैसा निकालने की सीमा में कटौती करने का फैसला लिया है। 31 अक्तूबर से बैंक के ग्राहक एक दिन में 20,000 रुपये से ज्यादा राशि नहीं निकाल पाएंगे। वर्तमान में यह सीमा 40,000 रुपये है।


एटीएम से पैसे निकालने की लिमिट कितनी है 2020?


इसके तहत रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक एटीएम से कैश निकालने के लिए आपको बैंक में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आया ओटीपी बताना होगा. यह नियम 10 हजार रुपये से ज्यादा के कैश ट्रांजैक्शन पर लागू है. आइए जानें 2020 से RBI के कौन से नए नियम लागू हो रहे हैं



बैंक से कितना पैसा निकाल सकते हैं? बैंक की शाखा से नकद निकासी


बैंक खाते में 50,000 रुपये से अधिक और 1 लाख रुपये तक रखने वाले ग्राहक बैंक शाखा से असीमित संख्या में पैसे निकाल सकते हैं. नॉन-होम ब्रांच से एक ग्राहक के रूप में आप 50,000 रुपये तक निकाल सकते हैं. अगर कैश निकासी की सीमा फ्री लिमिट को पार कर जाती है तो बैंक इस पर कुछ चार्ज वसूलता है

What is ATM, atm information in hindi, Full Form of ATM and Meaning, ATM Ki Puri Jankari Hindi Me


टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

Please do not enter any spam link in the comment box.